खबर और विचार हर किसी के पास होते हैं मगर कुछ मीडिया हाउस को उनपर अपना एकाधिकार जमा लेना और पाठकों को पता भी नहीं लगने देना कि क्या सच है और क्या गलत| इसको बदलने के लिए बन जाइए सिटीजन रिपोर्टर और अपनी रिपोर्ट के साथ एक खबर सम्बंधित फोटो भी भेजें हमारे फेसबुक पेज पर (इनबॉक्स करें) अगर खबर/लेखन में गुणवत्ता पायी गयी और आपका अकाउंट फर्जी नहीं लगा तो आपके नाम से खबर प्रकाशित कर दी जायेगी जिसको पूरा जिला पढ़ पायेगा | तो देर किस बात की ? तुरंत इनबॉक्स करें मगर ध्यान रखें खबर और आपका अकाउंट दोनों ही असली होना चाहिए साथ ही प्रोफाइल पिक्चर भी अमिताभ बच्चन या डोनाल्ड ट्रम्प की जगह आपकी असली पिक्चर ही होनी चाहिए| आज के बाद अगर कोई ये कहे कि मीडिया वाले इस वाली खबर या उस वाली खबर को क्यूँ नहीं छापते तो याद रखें कि अबसे आप खुद ही हैं सिटीजन रिपोर्टर और किसी के आगे गुहार लगाने कि अब नहीं है जरुरत | आप खबर भेजेंगे और जिले भर नागरिक उसको पढेंगे |


4 टिप्पणियाँ

  1. क्या ये सत्य नहीं की आज कोविड19,ओर ब्लैक फंगल महामारी में iminuti पावर ओर सही होनी चाहिए पर देश के सरकार पूंजीपतियों ने वो 25,30 वर्षों में हम सब से छीन ली केसे फेसबुक ग्रुप में देखे

    जवाब देंहटाएं
  2. क्या देश के मीडिया सरकार कोविड 19 ब्लैक फंगल महामारी के जो अकड़े बता रहे वो सही ह , कितने मृत्यु हुई ह कितने पोजिटिव एक्टिव, ओर रिमदिसिवर, को वैक्सीन, किस विज्ञानिको बनाई देश या विदेश , सब झूट पर झूट , एक बाबा रामदेव ने एलोपैथिक हो गए बात दिया ओर यह तक बोला की दो नो वैक्सीन ओर बहुत दावा की वजह से लोगो मोत हुई ह , एगजिट ओर सही अकड़े किसी मीडिया के पास नहीं ,

    जवाब देंहटाएं
  3. इतना आसान होता ह एक पूंजीपति उद्योगपति पति राज नेता के लिए की वो कुछ बोल दे गलत या सही , जैसे बाबा रामदेव ने अपनी कोरोनिल के लिए संपूर्ण विश्व की एलोपैथिक दवाओं ,ओर देश वैक्सीन गलत बताया ही नहीं बल्कि ये बोल दिया कि देश जितनी मोटे हुए ह वो सब वैक्सीन ओर एलोपैथिक दवाओं से हुई ह , इतना बड़ा भाषण , देश ही बल्कि संपूर्ण विश्व की वैज्ञानिक एलोपैथिक चुनौती दी गई थोड़ा विरोध हो में ट्वीटर लिख दिया कि में अपना भाषण वापस लेता ह कान्हा समान कानून जब कुछ युवाओं ने गौ मूत्र, गोबर को गलत बताया तो जेल भेज दिया ओर बाबा ओर राज नेता कुछ भी बोल दे केवल ट्वीटर लिख दो में अपना भाषण वापस लेता हूं बस कोई कानूनी कार्रवाई नहीं ऐसा क्यो क्यो

    जवाब देंहटाएं
  4. सर नमस्कार सर मैं काफी दिनों से आपका सीकर टाइम देख रहा हूं देख कर बहुत मोटिवेट होता ता हूं सर आज ट्रक वाले काफी परेशान इन पर एक वीडियो बनाएं, सर आज ट्रक वालों की स्थिति यह है जोकि निम्नलिखित.
    1. आरटीओ डिपार्टमेंट-
    जो भारत सरकार के अंतर्गत ही आता है यह डिपार्टमेंट डाकुओं से भी ज्यादा क्रूड है स्क्रीन का काम है सिर्फ हाईवे पर गाड़ी रोको या कहीं भी रास्ते पर गाड़ी रोको और पैसा तो चलो सिर्फ पैसा चाहिए इनको ड्राइवर को पीटना मारना गाड़ी को तोड़ना यही इनका काम है.
    2. तेल.
    यह यह एक ऐसा मटेरियल है जिसमें की गाड़ी का 70 परसेंट भाड़ा लग जाता है भारत में तेल पर कोई सुविधा नहीं है जिससे कि बड़े-बड़े ट्रक ओनर्स इसका फायदा उठा सके ₹100 डीजल का दाम हो गया है अब ₹100 डीजल भरवा के कोई ट्रक नहीं चला सकता.
    3. रोड टैक्स.
    सर यह ऐसा टैक्स है जिससे कि आप उस चीज का यूज़ कर रहे हैं या नहीं कर रहे हैं आपको टैक्स पर करना है
    4. भाड़ा फिक्स ना होना
    भाड़ा ट्रकों का भाड़ा फिक्स होना यह बहुत बड़ा कारण कहीं कोई कहीं कोई भी अपने हिसाब से ट्रक का भाड़ा फिक्स कर लेता है जो कि ट्रक वालों को सूट नहीं करता है मजबूरन भाड़ा ना होने के कारण उसके बारे में जाना पड़ता है
    5. पुलिस का अत्याचार
    कोई भी ऑल इंडिया परमिट गाड़ी किसी भी स्टेट से गुजरती है वहां की लोकल पुलिस हर थाने पर या फिर हर टोल पर बैठे हुए हैं उनको 500 400 दोस्तों यह जितना जो भी उन लोगों से हुआ है हम लोग को देना पड़ता है क्योंकि उसी भाड़े से देना पड़ता है जो भाड़ा फिक्स नहीं था जो भाड़े से ट्रक ओनर संतुष्ट नहीं है उसी भाड़े से इशारा चीज करना पड़ता है ड्राइवर को देना है तेल लेना है टोल टैक्स कटवाना है खलासी है दिल्ली ड्राइवर को खाने का मटेरियल देना है इत्यादि चीजें हैं उसके बाद किस्त भरना है फाइनेंसर आपकी बात को नहीं सुनता है ना सरकार सुनती है.
    सर इस बार बिहार में इसका प्रभाव था यहां के जितने ट्रक ओनर थे वह नहीं चाहते थे कि नीतीश कुमार की सरकार आए क्योंकि नीतीश कुमार ने बिहार में हर एक चीज पर बैन लगा दिया है जो ट्रक से रिलेटेड है चाहे बालू हो गिटी हो बिहार में वैसे तो कुछ है नहीं तो यह बात भी नीतीश कुमार जानते थे कि ट्रक वालों ने मुझे वोट नहीं दिया लालू की पार्टी को वोट दिए हैं कुछ लोग जो थे वह बीजेपी को दिए थे लेकिन यह आते ही 14 चक्का और इसके ऊपर की गाड़ियों पर बैन लगा दी है यह सारी बात जानते थे कि मुझे किसने की है ट्रक वालों ने वोट नहीं दिया वोट क्यों दे आपको आपने छोड़ा क्या है ट्रक वालों को हर चीज में बना कर रखा है बालू गिट्टी बिहार में कुछ है नहीं.
    सर ट्रक ऑनर एसोसिएशन भी है लेकिन सर यह कोई मुद्दा नहीं उठाता है यह भी कॉमेंट से मिला हुआ है या किस तरह की यह लोग हैं जो भी इस चीज को देख नहीं पा रहे हैं ना कोई मुद्दा उठाते हैं आप किसी से बात करते हैं तो इन लोगों की भी कुछ कहा नहीं जा सकता सर मैं बहुत आशा के साथ इस पोस्ट को लिख रहा हूं कि आप इस पर एक वीडियो बनाएं जिससे कि उन लोगों तक पहुंचे मुकेश में कुछ कर सकते हैं कुछ बदलाव ला सकते हैं कृपया हमारी बात को रखा जाए धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने