माकपा ने खुद स्वीकारा किसान आन्दोलन एक राजनैतिक पार्टी का आन्दोलन था 

ये बात सीकर से बाहर की मीडिया के लिए बड़ी खबर हो सकती है कि राजनैतिक पार्टी खुद ये स्वीकार कर रही है "किसान आन्दोलन" केवल किसानो का गैर राजनैतिक आन्दोलन न होकर एक राजनैतिक पार्टी का आन्दोलन भर था | अभी अभी प्रेस विज्ञप्ति जारी करके माकपा ने खुद ये स्वीकारा है कि माकपा जिला सचिव ने किसान आन्दोलन को अपनी पार्टी की उपलब्धि बताया है (न कि किसानो की)

अमराराम को किसान सभा के नहीं बल्कि माकपा के राज्य सचिव के तौर पर स्वीकार किया 

किसान आन्दोलन का गुणगान करते हुए प्रेस विज्ञप्ति जारी करने वाले ये स्वीकार कर गए कि अमराराम ने माकपा के राज्य सचिव के तौर पर कर्ज माफ़ी का आन्दोलन किया था (न कि किसान सभा के)
महाराष्ट्र किसान आन्दोलन में भी अमराराम विशेष तौर पर भाषण देने गए थे जहाँ उन्होंने एक बार भी माकपा न नाम नहीं लिया था, ऐसा करने पर नेशनल मीडिया तुरंत इस बात का मुद्दा बना लेता 

महाराष्ट्र किसान आन्दोलन को गैर राजनेतिक पेश करने वालों की मेहनत पर पानी फिरा 

हर एक कदम फूंक फूंक कर रखने वाले माकपा नेताओं के लिए ये एक बड़ा झटका है कि जो बात उन्होंने कैसे न कैसे बोलने से परहेज़ की वो सीकर में खुद पार्टी वालों ने विज्ञप्ति में निकाल दिया | अबतक पूरी मीडिया के आगे आन्दोलन को गैर राजनैतिक बताने कि भरसक कोशिश की जा रही थी और उसमें सभी ऐसे लोगों को सामने लाया जा रहा था जो राजनीती से सीधे तौर पर जुड़े हुए नहीं हैं | अपने महाराष्ट्र के भाषण में अमराराम ने भी ध्यानपूर्वक कभी माकपा का जिक्र नहीं किया मगर आज पोल खुल गई 

सीकर वालों के लिए ये कोई बड़ी खबर नहीं है 

सीकर में सब जानते हैं कि विधायक जब चुनाव हार जाते हैं तो आन्दोलन करते हैं, और यहाँ पर जो राजनीती हो रही थी वो सबको पता थी इसमें कोई शक नहीं था मगर जब हमने आन्दोलन में कुछ ग्रामीणों से बात की तो वो कोंग्रेस और भाजपा समर्थक थे मगर लाल झंडे को किसान का झंडा मानते थे, ये बात ऐसे आन्दोलनकारियों के लिए भी आँखें खोलने वाली साबित होगी

पचास हज़ार के कर्जा माफ़ पर दस हज़ार को पार्टी फण्ड में जमा करवाने को कहा था अमराराम ने 

जब अमराराम सरकार वार्ता के बाद सीकर आकर जबरदस्त भाषण दिया था उसमें अमराराम ने खुद ये कहा था कि "किसानो के पचास हज़ार माफ़ करवा दिए, अब जी दिन पैसे अकाउंट में आ जाएँ उस दिन दस दस हज़ार पार्टी फण्ड में जमा करवा देना" मतलब वो आन्दोलन फण्ड के लिए कर रहे थे और उनको लगता था कि दस दस हज़ार रूपये कर्ज में डूबे किसानो के लिए कोई मायने नहीं रखते |

AIKS के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं अमराराम, साधारण मेम्बर नहीं हैं 

इसके पहले अमराराम राष्ट्रीय अध्यक्ष थे और फ़िलहाल उपाध्यक्ष हैं जो ये बिलकुल साफ़ कर देता है किसानो को राजनीती के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, किसी भी प्रकार से अब किसान आन्दोलन राजनीती हित के लिए इस्तेमाल हो सकते हैं जहाँ पार्टी हित को प्रमुखता दी जा सकती है |

महाराष्ट्र आन्दोलन राजनेतिक धपोसला साबित हुआ 

वैसे तीस हज़ार किसानो को टोपी, झंडे खरीदकर देने वाली पार्टी जब अधिकारिक तौर पर स्वीकार ही चुकी है तो गैर राजनीतिक होने का दिखावा करने वाले आन्दोलन को धपोसला ही कहा जाएगा | तीस हज़ार कोई छोटी संख्या नहीं होती मगर सीकर शहर में तीस हज़ार की संख्या हर दुसरे दिन जमा दिख जाती है, खाटू मेले और बालाजी के मेले के लिए लोग कई सौ किलोमीटर से पैदल, नंगे पाँव आते हैं ये नज़ारा कोई नया नहीं है | पब्लिक का दिल तब दुखता है जब कोई गरीब को अपने राजनेतिक फायदे के लिए बहलाकर उसके साथ खिलवाड़ करे

Post a Comment

नया पेज पुराने