रोहतक: आने वाले चुनावों के मद्देनज़र हरियाणा में दमदार तरीक़े से बढ़त बनाने के लिए बसपा ने प्रोफ़ेसर महेश को अपना प्रभारी नियुक्त किया है। छात्र समय से ही प्रोफ़ेसर महेश प्रदर्शनों में और छात्र हित के मामलों को लेकर यूनिवर्सिटी प्रशासन को ज्ञापन देने में आगे रहा करते थे। 
प्रोफ़ेसर महेश ने अपनी PHD के दौरान रिसर्च में कई अहम पब्लिकेशन दिए जिन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा प्राप्त हुई। रिसर्च कार्य खत्म होते होते उनका ध्यान राजनीतिक क्षेत्र में भी लगने लगा। राजनीति में आने का उनका इरादा अनायास ही नहीं बना बल्कि उनके मित्र प्रवीन राठी बताते हैं कि जब भी किसी छात्र को समस्या होती तो प्रोफ़ेसर महेश हमेशा कहा करते राजनीति स्वच्छ होती तो यह परेशानी ही नहीं होती अपने इसी सेवाकाल के जज्बे के अंतरगत उन्होंने राजनीति को अपना कार्यक्षेत्र चुनने का फ़ैसला किया। 
पिछले कुछ समय से कई आंदोलनों और प्रदर्शन का हिस्सा रहे प्रोफ़ेसर महेश के टीम में कई बुद्धिजीवी शामिल हैं जो चुनाव में अपने व्यूह रचना की छाप छोड़ देंगे इसमें कोई संदेह नहीं है। 
सीकर टाइम्स के संवाददाता से फोन पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि बहन मायावती का सपना है हरियाणा में किसी भी दलित शोषित पीड़ित पर अत्याचार न हो और इस कार्य को करने के लिए उनकी प्राथमिकता बहुजन समाज पार्टी को सत्ता में लाना है। 
हरियाणा की प्रमुख पार्टी इनेलो के साथ गठबंधन करने के बाद बहुजन समाज पार्टी के सत्ता में आने की संभावना काफ़ी बढी हुई है और बुद्धिजीवियों का राजनीति में आना साथ ही राज्य स्तर पर फ़ैसले लेने वाले पदों पर आने से राजनैतिक पार्टियों को काफ़ी फ़ायदा होगा। 


Post a Comment

नया पेज पुराने