सीकर : पत्रकारिता किस हद तक शर्मसार हो सकती है वो आपको पत्रकारों के समूह द्वारा निकाले गए फरमान से पता चल जाएगा जहाँ पूरा पत्रकार जगत फेक न्यूज़ के नहीं  बल्कि फेक न्यूज़ को एक्सपोज़ करने के खिलाफ एकजुट हो गए हैं
सीकर जिला राजस्थान का एक जिला है जो राजनैतिक रूप से काफी समृद्ध  साथ ही यहाँ की मीडिया भी एकजुट होकर ख़बरों को अपने हिसाब से तोड़ने मरोड़ने का काम करती है जिसकी वजह से आम नागरिक रोष में रहते हैं. पिछले कुछ दिनों से प्रिंट में आयी फर्जी ख़बरों की सच्चाई सोशल मीडिया पर कई सोशल मीडिया पोर्टल डाल रहे थे उदहारण
१. कई प्रिंट समूहों ने खबर दी कि अजयपाल कल्याण नामक एक व्यक्ति जो जिले के छोटे से गांव में रहता है वो नासा जाकर ट्रेनिंग देगा, उसे भौतिक विज्ञान की सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार "मैक्स प्लान्क" अवार्ड मिलने वाला है और बीएड करने के बाद विदेशो से उसे विश्वविद्यालय हॉनर डिग्री दे रहे हैं | जो सिरे से ही फर्जी खबर थी,  इन पत्रिकाओं के चक्कर में जिला कलेक्टर तक आ गए और अजयपाल कल्याण की निजी कोचिंग द्वारा बुलाये प्रोग्राम में जनता के सामने कसीदे पढ़ बैठे | उन्होंने तो यहाँ तक जनता को बोला कि अजयपाल कल्याण मैग्नेटिक बम पर काम कर रहे हैं जिसे सबने सत्य मान लिया मगर सोशल मीडिया पर पूरी पोल खुल गई
२. फोटो में स्कूटी का टायर डूबा है वहां प्रिंट मीडिया में चार फ़ीट पानी बताया जा रहा था
३ मिनी बस का जहाँ टायर ही डूबा है वहां 6 फ़ीट गहरा पानी बताया जा रहा था

इनके अलावा भी हर रोज़ सोशल मीडिया पर फेक न्यूज़ की पोल खुल रही थी जिसकी वजह से पत्रकारों के समूह ने वो कर दिया जिसे सोचा भी नहीं जा सकता
निचे दिए लेटर जो सीकर जिला पत्रकार संघ के नाम से निकला है उसमें सोशल मीडिया के न्यूज़ पोर्टल के खिलाफ सभी एकजुट हो गए और नेताओं को, निजी संस्थाओं को, व्यापार संघों को, सामजिक कार्यकर्ताओं को सीधे तौर पर चेतावनी दे दी कि हम आपकी किसी भी खबर का बहिष्कार कर देंगे अगर कोई भी सोशल मीडिया पर नज़र आया


English Translation of above letter 

(Note: Please take help of expert also, we are not responsible for any slight/big error in translation)

Today on 6th of September an urgent meeting of all reporters from sikar district was conducted where some important decisions were taken to safeguard interests of journalists. All of the journalists are hereby informed to implement these decisions in their respective media houses which are as follows
  1. In the present time some people are portraying themselves as reporters and are uploading news and videos. This is threat to fourth pillar in democracy and its reliability. All of the journalists have therefore decided to boycott such so called journalists. All political parties, Social activists, Educational institutions, trade unions, religious organizations and others are hereby informed that invitation to such person in any press conference as well as any other programs may result in boycott of that particular organization for news
  2. Those so called journalists which publish videos only on facebook, youtube, whatsapp, not associated with any organization if undergoes any accident will not be responsibility of union
  3. Any political leader or any other activists who in case appear on interviews of such journalists will be boycotted and news will not be published 
  4. The union will also take legal action against such social media journalists. Common public is also advised to stop these journalists from going live at any place and inform police.
Signatories contain editor of Dainik Bhaskar, Correspondents of India News, Etv Rajasthan, Zee Rajasthan and many others



Post a Comment

नया पेज पुराने