शंकराचार्य ने धर्मसंसद के दौरान बड़ा बयान दिया है, उन्होंने कहा कि बाबरी मस्जिद विध्वंस हुआ ही नहीं क्यूंकि वहां मस्जिद थी ही नहीं, तर्क के रूप में उन्होंने कहा कि खुदाई में हनुमानजी की मूर्ति के अलावा कई और मंदिर से जुड़े हुए अवशेष मिले थे, मस्जिद में वुजू के लिए पानी के लिए कुंवा होता है जो वहां था ही नहीं इसके साथ ही उन्होंने इतिहास को जोड़कर कहा कि जिस मीर बाकी द्वारा बाबर के कहने पर वहां मस्जिद बनाने की बात कही जाती है उसको बाबर ने खुद ही काफी पहले अपनी सेना से निकाल दिया था जिसका जिक्र शंकरचार्य के अनुसार उपलब्ध है
उन्होंने यह भी कहा कि हर मस्जिद में मीनार होती है जो कि परिसर में कहीं नहीं है और जिस ढांचे को तोडा गया वो केवल उन्माद में आकर कुछ लोगों ने मंदिर को ही तोड़ दिया था | शंकराचार्य के इस बयान के बाद हर तरफ से प्रतिक्रिया मिल रही है | स्वामी चक्रपाणि ने धर्म संसद को परम धर्म संसद करार किया और  कहा कि धर्म संसद में यह भी निर्णय लिया गया है कि 21 फ़रवरी को सभी साधू राम जन्म भूमि की तरफ कूच करेंगे और राम लला को पॉलिथीन की थैली वाली छोटी सी जगह से उनके स्थान पर विराजमान करवाएंगे 

Post a Comment

नया पेज पुराने