जयपुर : श्री राष्ट्रीय राजपूत करनी सेना सुप्रीमो सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने निजी चैनल को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि लाल चौक पर पहले से एलान करके जाना और वहां तिरंगा फहराने वाला काम केवल मोदी और उन्होंने किया है, साथ ही उन्होंने कहा कि इसके लिए वो साहस चाहिए जो हर दो कदम पर जाकर पलट जाने वाले नेताओं में है ही नहीं |

15 अगस्त को लाल चौक पर फेहराया था तिरंगा 

गत वर्ष गोगामेड़ी ने तीन महीने पहले एलान करके लाल चौक पर झंडा फहराने का दम भरा था जिसके चलते उन्हें पूरे देश भर से समर्थन मिला था वहीँ उनके सामानांतर विरोधी नेता ये कह रहे थे कि ऐलान करके जाना मौत के मुँह में जाने जैसा है और गोगामेड़ी ऐसा नहीं कर पाएंगे मगर गोगामेड़ी झंडा फेहरा कर ही माने

अन्य अघोषित संगठनों ने भी फेहराया था तिरंगा

अघोषित तरीके से कई अन्य संगठओं ने भी गुपचुप तरीके से झंडा फेहराया था मगर घोषित करके जाने की प्रतिक्रिया बहुत बड़ी होती है इसलिए ऐसा काम करने का कोई रिस्क उठाना नहीं चाहता था

बेनीवाल को दिया चैलेंज 

नागौर जिले के खीमसर विधायक हनुमान बेनीवाल को चैलेंज देते हुए आरोप भी लगाया कि बेनीवाल के पास केवल आईटी टीम है, जमीन पर उनके पैर कमजोर हैं, जिसके चलते केवल  तीन चार हज़ार लड़के अलग अलग मोबाइल से उनके ही समाज के नामों की फेक प्रोफाइल बनाकर उन्हें अभद्र टिप्पणियां करते हैं साथ ही गोगामेड़ी ने हज़ार से ज्यादा स्क्रीनशॉट का फोल्डर भी दिखाया जिन प्रोफ़िलों ने उन्हें उनका ही समाज का बनकर गलियां दी और अब बेनीवाल का समर्थन कर रहे हैं |

लाल चौक जाने निकला दल तो पूरे कश्मीर में उनके विरुद्ध खबर बनाने की हुई कोशिश  

जैसे ही पठानकोट से मुकेरियां के लिए गोगामेड़ी की टीम निकली थी तो इसकी खबर वहां के एक लोकल चैनल ने चला दी थी जिसके बाद आतंकवादी हमले का खतरा बढ़ गया था पूरे दल पर जिसके चलते पुलिस ने बॉर्डर पर ही सबको रोक लिया था | मगर जाने कैसे गोगामेड़ी लाल चौक पहुँच गए और झंडा फहरा दिया




Post a Comment

नया पेज पुराने