सीकर टाइम्स पहले ही खबर छाप चुका है कि किस प्रकार पेट्रोल पंप पर धोखाधड़ी के जरिए आपकी मेहनत की कमाई का बड़ा हिस्सा लुटेरे पेट्रोल पंप वाले आपसे लूट लेते हैं और भयानक भ्रष्टाचार करके अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाते हैं
एक बड़ी कार्यवाही के चलते स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम ने जिस जिस पेट्रोल पंप पर धावा बोला उस उस पेट्रोल पंप पर 5% से लेकर 10% पक्की धांधली मिली जिसका मतलब यह होता है कि अगर आप हजार रुपए का पेट्रोल डलवा रहे हैं तो आपको बढ़िया हालात में साढे 900 का और घटिया हालात में ₹850 का ही पेट्रोल मिल रहा है

इस समय यह खबर हर जगह छाई हुई है कि कार्यवाही पर चलते सभी पेट्रोल पंपों पर हड़कंप मचा हुआ है और लुटेरे मालिक तरीका निकाल रहे हैं किस तरह से बचा जाए | अगर आप यह देखते हैं कि कोई पेट्रोल पंप बंद है या किसी भी तरह की कोशिश कर रहा है अपनी मशीन से छेड़छाड़ करने का तो तुरंत अधिकारियों को सूचित करें

स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम ने चिप लगाने वाले एक आदमी को पकड़ा है जिस ने बताया है कि हजार से ज्यादा पेट्रोल पंपों में चिप तो वह अकेले ही लगा चुका है और उसके तरीके से और भी कई सारे लोग हैं जो इस काम में लगे हुए हैं
ज्यादातर हालात में आम नागरिक यह जानते हुए कि उसे लूटा जा रहा है वह इस लूट के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाता और खुद जाकर बोलता है पेट्रोल पंप वाले को कि लो भैया अब आप भी लूट लो क्योंकि मैं आपसे उलझ नहीं सकता पर सारे के सारे पेट्रोल पंप वाले वैसे भी बड़े आदमी होते हैं जो 10 ₹15000 की नौकरी करने वाले लोगों के बस में कभी नहीं आते हैं

इस तरह की कार्यवाही मोदी सरकार की उपलब्धि भी गिनी जा सकती है क्योंकि इसके पहले कभी इतने बड़े स्तर पर ना तो कोई कार्यवाही हुई है और ना ही कभी मीडिया में खबरें आने दी गई है जयपुर में भी कलेक्ट्रेट से निकलते ही MI रोड की तरफ जाने वाला जो पेट्रोल पंप आता है (पुलिया के बाद) उसमें ऐसी तरीके की धांधली देखी गई थी और उसके बाद उसे बंद कर दिया गया था मगर फिर भी मीडिया में आने से रोका गया था

समय समय की बात है और कल रात तक दादागिरी में घूम रहे पेट्रोल पंप के मालिक आज भीगी बिल्ली बने अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं क्योंकि कार्यवाही तो जरूर होगी ऐसा सीकर टाइम्स का मानना है
सिर्फ लखनऊ शहर में 10 पेट्रोल पंप ऐसा कर रहे हैं जिन पर अभी कार्यवाही हुई है और हर पेट्रोल पंप पर  5:00 से 1000000 रुपए की महीने की भ्रष्टाचार की कमाई या ऐसा कह दे कि लूट की कमाई लेकर लुटेरे पेट्रोल पंप मालिक बड़ी गाड़ियां खरीदते हैं महंगे होटलों में रहते हैं विदेश यात्राएं करते हैं और टैक्स का मारा कर्मचारी   लूट पीट  के अपनी चाय के पैसे बचाते हुए अपने घर का खर्चा चलाता है
इस भ्रष्टाचार के चलते माल भाड़े में भी ट्रांसपोर्ट ज्यादा पैसा मांगते हैं जिससे कीमतों में वृद्धि होती है अगर 5% भी  इस तरह के लूट में चले जाता है तो यह मान लीजिए कि 5% की महंगाई तो सिर्फ इन लुटेरों ने लगाई हुई है

आगे आगे देखिए होता है क्या और हमारी इस खबर पर नजर बनी हुई है

Post a Comment

नया पेज पुराने