हैरानी होती है जब मीडिया शोर मचा रहा है कि हमला स्कूल बस पर हुआ है मगर FIR की कॉपी हरयाणा रोडवेज की दिखा रहा है | क्या हरयाणा रोडवेज ही G D गोयनका स्कूल वालों को सौंप रखी है हरयाणा सरकार ने या फिर मीडिया वाले सभी को मूर्ख समझते हैं | अगर हमला स्कूल बस पर हुआ है तो FIR की कॉपी भी उसकी ही दिखानी चाहिए
ऐसा लगता है कि दो अलग अलग ख़बरों का मसाला बनाकर करनी सेना को दबाव में लाया जा रहा है क्यूंकि सबसे ज्यादा एडवरटाइजिंग बजट मीडिया पर ही लगाया हुआ है पद्मावत के निर्माताओं ने

देख लीजिये जिस ड्राईवर की और जिस बस की बात की जा रही है क्या वो आपको तोड़ी फोड़ी लगती है ? सिर्फ एक पत्थर है जो सामने वाली खिड़की पर लगा है तो क्या कहाँ भी आज कोई भी शीशा फूटेगा तो वो करनी सेना की वजह से ही माना जाएगा ?





Post a Comment

नया पेज पुराने