गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अम्बेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर कड़ी निंदा की है, उनका कहना है कि अराजकता का भारत में कोई स्थान नहीं है और देश जिस पवित्र संविधान से चलता है मेरठ में उसके जनक की मूर्ति तोड़ी जाना बेहद निंदनीय कार्य है

लेनिन की मूर्ति तोड़ने पर विरोध में अम्बेडकर की मूर्ति तोड़ी  

जो मूर्ति लेनिन की तोड़ी गई थी अराजक तत्वों द्वारा वो मूर्ति सरकारी पैसे की बनी हुई थी जिसका पैसा हर टैक्स देने वाला चुकाता है, ऐसे में कुछ लोग ये भी पूछ रहे थे कि उनके टैक्स के पैसे को विदेशी लेनिन की मूर्ती में क्यूँ लगाया गया फिर भी उसके विरोध में संविधान निर्माता की जो मूर्ति तोड़ी गई है वो आम नागरिकों ने अपने पैसे इकट्ठे करके लगाई थी उससे सभी देशवासी दुखी हैं | चुनाव में हार जीत लगी रहती है मगर एक देशवासी ही देशवासी की मूर्ति इसलिए तोड़ दे क्यूंकि वो चुनाव में हार गया है घोर निंदनीय है | 


Post a Comment

नया पेज पुराने