डॉ0 भीमराव अम्बेडकर को लोग सिर्फ संविधान निर्माता और दलित की आजादी के मसीहा के रूप दिखाने की कोशिश करते हैं। उनके द्वारा किये गए वो अविस्मरणीय कार्य जो किसी ख़ास वर्ग के लिए नहीं अपितु प्रत्येक भारतीय के लिए थे ।

1.  तीव्र विरोध के बावजूद उन्होंने महिलाओं सहित सभी को वोट का संवैधानिक अधिकार दिलवाया, ये बाबा साहब देन है।

2. महिलाओं को पुरुषों के समान वेतन दिलवाने का कार्य भारत के सभी वर्गों की महिलाओं को बाबा साहब की ही देन है ।

3. महिलाओं के लिए प्रसूति अवकाश की व्यवस्था की, ये भारत की महिलाओं को बाबा साहब की देन है ।

4. 12 घण्टे काम करने की अवधि को घटाकर 8 घण्टे किए, इसी कड़ी में हफ्ते में 1 दिन के जरूरी अवकाश की व्यवस्था भी भारत के सभी श्रमिकों को बाबा साहब की ही देन है ।

5. ट्रेड यूनियन को सरकारी मान्यता दिलवाई ताकि वो कानूनन अपनी मांग उठा सकें, ये अधिकार बाबा साहब की देन है ।

6. भारत में एम्प्लॉयमेंट एक्सचेंज की व्यवस्था की ताकि सरकार के किसी विभाग के बंद होने पर कर्मचारियों को नौकरियों से न निकाला जाए । भारत के सभी कर्मचारियों को ये बाबा साहब की देन है ।

7. कामगार वर्ग के हितों की रक्षा के लिए बीमा स्कीम लागू की । ये भारत को बाबा साहब की देन है

8. हर 5 साल में वित्त आयोग की व्यवस्था की, ये बाबा साहब की भारत को देन है ।

9. 1925 में अपनी पी०एच०डी० की थीसिस "प्रोब्लम ऑफ़ रुपी- ईट्स प्रोब्लम एंड ईट्स सोल्युशन" को हिल्टन यंग कमीशन से साझा किया और भारत में रिज़र्व बैंक की स्थापना करवाई । ये बाबा साहब की भारत को देन है

10. एक न्यूनतम वेतनमान की व्यवस्था की, ये बाबा साहब की भारत को देन है ।

11. उद्योग और कृषि के उत्पादन को बढ़ाने के लिए सस्ती व प्रचुर मात्रा में बिजली की जरूरत की सिफारिश की और बिजली विभाग, निगम और ग्रिड की स्थापना सुनिश्चित की । ये भारत को बाबा साहब की देन है ।

12. भारतीय सांख्यिकीय एक्ट बनाया जो देश में महंगाई उन्मूलन, मजदूरी, आय, लोन, बेगारी आदि सम्बंधित योजनाओं के लिए महत्वपूर्ण आंकड़े मुहैया करवाता है । ये भारत को बाबा साहब की देन है ।

13. मजदूरों के हितों की रक्षा के लिए मजदूर विकास कोष की? स्थापना की । ये भारत के सभी मजदूरों को बाबा साहब की देन है ।

14. देश के विकास में तकनीक और कुशल कामगार की जरूरत को ध्यान में रखते हुए टेक्निकल ट्रेनिंग और स्किल्ड वर्कर के लिए स्कीम बनाई । ये भारत को बाबा साहब की देन है ।

15. बिजली के साथ सिंचाई की उचित व्यवस्था हो, इसकी देखरेख के लिए उन्होंने दो तकनीकी संगठनों की व्यवस्था की, जो आज सेंट्रल वाटर कमीशन एवम् सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथोरिटी के नाम से जाने जाते हैं । ये भारत को बाबा साहब की देन है

16. बिजली एवं सिंचाई के लिए प्रोजेक्ट बनाए जिनमें दामोदर वैली, भाखड़ा नागल, सोन रीवर वैली, हीराकुण्ड प्रोजेक्ट प्रमुख हैं । ये भारत को बाबा साहब की देन है ।

17. हर 6 महीने में महंगाई भत्ते की व्यवस्था उन्हीं बाबा साहब की देन है।

18. कर्मचारियों के लिए प्रोविडेंट फंड की स्थापना भारत के सभी कर्मचारियों को बाबा साहब की देन है ।

19. कानूनन हड़ताल करने का हक़ दिलवाया ताकि अधिकारों की रक्षा के लिए विरोध प्रकट किए जा सके । ये बाबा साहब की देन है ।

20. कर्मचारियों के वेतनमान में संशोधन की कानूनन व्यवस्था की । भारत के कर्मचारियों को ये बाबा साहब की देन है

इन सब जानकारियों को हटाकर केवल आरक्षण वाली बात ही सामने लाना राजनैतिक पार्टियों को सूट करता है। केवल राजनीति की वजह से ही भारत के महान विचारक और सुधारक बाबा साहब को केवल एक ख़ास वर्ग का हितैषी बताना देश के इतिहास और धरोहर के साथ अन्याय हैं। 
महिलाओं को वोट का अधिकार मिलना एक सामान्य बात आपको लग सकती है मगर ये भी जान लें कि अमरीका जैसी जगह में भी महिलाओं को वोट करने के लिए सौ साल का संघर्ष और इंतज़ार करना पड़ा था। दुनिया अभी भी ऐसी जगह हैं जहाँ महिलाओं को वोट करने का अधिकार नहीं है, मगर उन जगहों की श्रेणी में भारत शामिल नहीं है इसका श्रेय बाबा साहब को मिलना ही चाहिए। 


Post a Comment

नया पेज पुराने