भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा 
"2019 के कार्यक्रम की शुरुआत हो गई है, सारा विपक्ष आह्वान करता है कि इकट्ठा आओ। मैंने एक वार्ता सुनी थी। जब बहुत बाढ़ आती है तो सारे पेड़-पौधे पानी में बह जाते हैं। एक वटवृक्ष अकेले बच जाता है तो सांप भी उस वृक्ष पर चढ़ जाता है, नेवला भी चढ़ जाता है, बिल्ली भी चढ़ जाती है, कुत्ता भी चढ़ जाता है, चीता भी चढ़ जाता है, शेर भी चढ़ जाता है, क्योंकी नीचे पानी का डर है, इसलिए सब एक ही वृक्ष पर इकट्ठा होते हैं। यह मोदी जी की बाढ़ आई हुई है, इसके डर से सांप, नेवला, कुत्ती, कुत्ता, बिल्ली सब इकट्ठा होकर चुनाव लड़ने का काम कर रहे हैं"
विपक्ष ने अमर्यादित भाषा के प्रयोग का आरोप लगाया, किसी को कुत्ते से किसी को कुत्ती से तो किसी को सांप के नाम लेने को लेकर आपत्ति है | 

Post a Comment

नया पेज पुराने